थोड़े से गदहों की खातिर परेशान हैं क्यों माता जी;

कल पंगेबाज जी ने एक राजनीतिक हस्ती द्वारा दूसरे राजनीतिक हस्ती के पास अपने गधे भाग जाने की शिकायत करते हुये लिखी एक चिठ्ठी लीक की थी.  दूसरे राजनीतिक ने इस चिठ्ठी को अपने संकटमोचन को दे दिया था.  संकटमोचन जी ने भी इस चिठ्ठी का जबाब एक कविता में दिया है.  लीजिये इस चिठ्ठी से कुछ अंश.

पढ़ना जारी रखें “थोड़े से गदहों की खातिर परेशान हैं क्यों माता जी;”

Advertisements

हिन्दी ब्लागिंग पर सोमरस ठाकुर की ये कविता सुनिये.

सोमरस ठाकुर आगरे से हैं और ब्रम्हांड के सबसे बड़े कवि है उसी तरह जैसे आलोक पुराणिक इस ब्रम्हांड के सबसे बड़े लेखक हैं. पढ़ना जारी रखें “हिन्दी ब्लागिंग पर सोमरस ठाकुर की ये कविता सुनिये.”